ड्रग कंट्रोलर ऑफ इंडिया ने भारत बायोटेक की ‘कोवैक्सीन’ और सीरम इंस्टीट्यूट की ’कोविशील्ड’ को आपातकालीन इस्तेमाल के लिए मंजूरी।

न्यूज होम लाइव नेटवर्क ः-

देहरादून कोविड-19 की स्वदेशी वैक्सीन के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और वैज्ञानिकों का अभिनंदन करते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि प्रधानमंत्री के मार्गदर्शन में कोरोना महामारी से लड़ने के लिए लंबे समय से कोविड-19 स्वदेशी वैक्सीन का इंतजार अब खत्म हो चुका है। कोरोना वैक्सीन विशेषज्ञ समिति की संस्तुति पर ड्रग कंट्रोलर ऑफ इंडिया ने भारत बायोटेक की ‘कोवैक्सीन’ और सीरम इंस्टीट्यूट की ’कोविशील्ड’ को आपातकालीन इस्तेमाल के लिए मंजूरी दे दी है। संपूर्ण देशवासियों के लिए गर्व की बात यह है कि ये दोनों ही वैक्सीन भारत में ही बनी हैं।

वही इसी के साथ ही दुसरी ओर दून जनपद में कोविड-19 वैक्सीन के टीकाकरण का पूर्वाभ्यास आज सम्पूर्ण देश साथ-साथ उत्तराखण्ड में भी किया गया। देहरादून के अन्तर्गत 05 चिकित्सा ईकाईयों पर कोविड-19 वैक्सीनेशन हेतु पूर्वाभ्यास की गतिविधि सफलतापूर्वक की गई। कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए नामित राज्य नोडल अधिकारी एवं मिशन निदेशक एन०एच०एम०, श्रीमति सोनिका ने पूर्वाभ्यास (ड्राईरन) के पूर्ण होने के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि उत्तराखण्ड में यह गतिविधि देहरादून में क्रमशः महात्मा गांधी शताब्दी चिकित्सालय, शहरी स्वास्थ्य केन्द्र खुडबुडा, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र भानियावाला, राजकीय ऐलोपैथिक चिकित्सालय भोगपुर एवं रानीपोखरी में आज प्रातः 09 बजे से आरम्भ की गई तथा इस दौरान सभी 05 चिकित्सा ईकाई पर कुल 123 हैल्थ केयर वर्कर्स के टीकाकरण का लक्ष्य निर्धारित किया गया था जिसके सापेक्ष पूर्वाभ्यास के दौरान कुल 121 हैल्थ केयर वर्कर्स को टीकाकरण दिया गया। टीकाकरण से पूर्व सभी लाभार्थियों को उनके मोबाईल पर 1. एस०एम०एस० द्वारा सूचित किया गया था।

वही जिसमें इस दौरान मिशन निदेशक श्रीमति सोनिया ने जानकारी दी कि सभी 05 चिकित्सा ईकाईयों पर पूर्व निर्धारित मानकों के अनुसार पूर्वाभ्यास पूर्ण किया गया तथा वैक्सीनेशन हेतु तैनात स्वास्थ्य कर्मियों एवं चिकित्सकों ने टीकाकरण की बारिकियों को समझते हुए इस कार्य हेतु तैनात सुपरवाईजर्स के निर्देशानुसार वैक्सीनेशन किया गया। पूर्वाभ्यास के सफल संचालन हेतु राज्य नोडल अधिकारी द्वारा राज्य मुख्यालय सहित सभी चिकित्सालयों पर पर्यवेक्षक तैनात किए गए थे जिसके अन्तर्गत राज्य मुख्यालय पर चीफ ऑपरेशन आफिसर डॉ० अभिषेक त्रिपाठी, जिला चिकित्सालय पर निदेशक एन०एच०एम० डॉ० सरोज नैथानी को पर्यवेक्षण की जिम्मेदारी दी गई थी इस के अतिरिक्त राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ० के.एस.मर्तोलिया, विश्व स्वास्थ्य संगठन के डॉ0 विकास शर्मा तथा राज्य टी0बी0 अधिकारी डॉ0 मंयक बडोला को भी पर्यवेक्षक तैनात किया गया था।

Share This News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •