भारत में 5G स्पेक्ट्रम के नीलामी की प्रक्रिया खत्म हो चुकी है और अब देश 5G सर्विस के लिए तैयार है।

न्यूज होम लाइव नेटवर्क।

दिल्ली।  भारत में 5G स्पेक्ट्रम के नीलामी की प्रक्रिया खत्म हो चुकी है और अब देश 5G सर्विस के लिए तैयार है। माना जा रहा है कि 15 अगस्त को इस सर्विस के बारे में बड़ी घोषणा की जा सकती है और उसके बाद अक्टूबर तक 5G सर्विस देश में दस्तक दे सकती है। परंतु यूजर्स के लिए बड़ा सवाल है कि क्या 4G SIM पर ही 5G सर्विस दी जा सकती है या फिर इसके लिए नए SIM की जरूरत होगी? ऐसे में 91मोबाइल्स की टीम ने इस पर काफी पड़ताल की और देश के बड़े इंजीनियरों से बात की और जो जानकारी सामने आई है वह चौंकाने वाली है। अब तक हमने यही देखा है कि जब भी सर्विस बदलती है तो नेटवर्क ऑपरेटर्स यूजर्स को नए SIM लेने के लिए सूचित करते हैं। परंतु सच्चाई कुछ और है और जब तथ्य सामने आएगा तो आप भी इसे मानेंगे। चलिए इस पर विस्तार से बात करते हैं।

2G के बाद 3G के लिए भी जारी किए गए नए SIM

4G सिम पर 5G सर्विस मिलेगी या नहीं इस बारे में जानने के लिए थोड़ा मोबाइल जगत का इतिहास जानना होगा। भारत में मोबाइल सर्विस 2G के साथ शुरू हुई थी। परंतु 2008 में MTNL ने 3G के साथ भारत में आगाज किया। इसके बाद BSNL की 3G सर्विस आई और 2011 में स्पेक्ट्रम नीलामी के बाद प्राइवेट ऑपरेटरों ने अपनी 3G सेवा शुरू की। जिसमें Airtel, Vodafone और IDEA सहित कई कंपनियां थी। परंतु देखने वाली बात यह थी कि जब सर्विस शुरू हुई तो नेटवर्क ऑपरेटर ने यूजर्स को 3G सेवा के लिए नई SIM लेने के लिए सूचित किया। पुराने SIM पर यह सर्विस नहीं दी गई।

Share This News