रक्षाबंधन (राखी),श्रावणी उपाकर्म,संस्कृत दिवस 12अगस्त शुक्रवार को मनाया जाएगा-पं गणेश दत्त जोशी आचार्य।

न्यूज होम लाइव नेटवर्क।

रक्षाबंधन (राखी),श्रावणी उपाकर्म,संस्कृत दिवस 12अगस्त शुक्रवार को मनाया जाएगा-पं गणेश दत्त जोशी आचार्य।

बागेश्वर  जिले के ज्योतिषो,आचार्यो व ब्रामणो द्वारा बागनाथ मंदिर में एक आवश्यक बैठक कर रक्षा बन्धन पर्व को मनाने के लिए हो रही दुविधा पर चर्चा की। यहा बागनाथ मंदिर पर हुई सभा में जिले के ताड़ीगाव निवासी पं आचार्य गणेश दत्त जोशी ने बताया कि रक्षाबंधन (राखी)बाधने को लेकर जनमानस में उपजी भ्रांतियों को देखते हुए सर्व सम्मति से निर्णय हुआ कि 12 अगस्त दिन शुक्रवार को राखी का त्योहार मनाया जाएगा, उन्हींने कहा कि 11अगस्त बृहस्पतिवार को 10घटी12पला यानि प्रात:9 बजकर 35 मिनट के बाद पूर्णिमा तिथि लग रही है तथा पूर्णिमा लगते ही भद्रा लग जा रही है। जो भद्रा बृहस्पतिवार को ही रात्रि 8 बजकर 25 मिनट तक है।
शास्त्रों के अनुसार भद्रा में होलिका दहन,श्रावणी उपाकर्म (रक्षाबंधन) नही करना चाहिए, क्योंकि भद्रा में होलिका दहन करने से ग्राम का विनाश तथा भद्रा में श्रावणी उपाकर्म रक्षाबंधन राखी बाधने से राजा एवं प्रजा की हानि होती है शास्त्रों के अनुसार भद्रा का वास कहीं पर हो परन्तु यह दोनों कार्य निषेध है।
इस आधार पर सभी विद्वानों ने सर्वसम्मति से निर्णय लिया कि 12 अगस्त दिन शुक्रवार को उदया तिथि में पूर्णिमा मिल रही है इसलिए 12 को ही रक्षाबंधन राखी श्रावणी उपाकर्म संस्कृत दिवस मनाया जाएगा।
बैठक में शास्त्री खयाली दत्त तेवारी, मदनमोहन पांडेय, ज्योतिषाचार्य धर्मानन्द जोशी, गोकुला नन्द जोशी, पप्पू तेवारी, रमेश पांडेय आदि सहित दर्जनों लोग उपस्थित रहे।

Share This News