मंदिर के बहार नंदा भक्तों ने देवी की पूजा-अर्चना कर मनौतियां मांगी।

रिपोर्ट हरेंद्र बिष्ट।

थराली। नंदादेवी राजराजेश्वरी मां भगवती के जोरदार जयकारों के साथ बधाण की नंदादेवी की उत्सव डोली नंदा सिद्वपीठ देवराड़ा थराली के मंदिर के गर्भगृह से विधि-विधान के साथ बहार निकाला गया। जिसके बाद मंदिर के बहार नंदा भक्तों ने देवी की पूजा-अर्चना कर मनौतियां मांगी। उत्सव डोली की विदाई के दौरान पहली बार आयोजित हो रहे विदाई मेले के पहले दिन क्षेत्र की महिला मंगल दलों ने नंदादेवी पर आधारित शानदार झोड़े एवं चाचरी प्रस्तुत किए।आज नंदा सिद्वपीठ कुरूड़ के लिए रवाना होने के तहत यात्रा अपने पहले पड़ाव बज्वाड़ गांव पहुचेगी।
गुरुवार को सिद्धपीठ देवराड़ा में दोपहर करीब 11 बजे मंत्रों उच्चारण के साथ नंदादेवी के उत्सव डोली को मंदिर के गर्भगृह से बहार निकाल गया। जैसे ही डोली को बहार निकालने की प्रक्रिया शुरू हुई तों पूरा मंदिर परिसर नंदादेवी के जयकारों से गूंज उठा। डोली को गर्भगृह से निकल कर देवी भक्तों की पूजा अर्चना के लिए मंदिर के बहार रख दिया गया। जिसके बाद देवी भक्त नंदादेवी की पूजा अर्चना करने में जुट गए समाचार लिखे जाने तक देवी की पूजा अर्चना कर मनौतियां मांगने का सिलसिला जारी है। इसके बाद पहली बार आयोजित हो रहे विदाई मेले के दौरान महिला मंगल दल थाला, लोल्टी, त्रिलोक, तु़ंगेश्वर, देवराड़ा,भकार आदि गांवों की महिला मंगल दलों ने एक से बढ़कर एक नंदादेवी की स्तुति के झोड़े एवं चाचरी प्रस्तुत कर पुरे क्षेत्र को नंदामय बना डाला देर सांय तक आयोजन चलता रहा।इस दौरान प्रसिद्ध कथावाचिका राधिका जोशी ने भी नंदादेवी के भजन एवं गीत प्रस्तुत किए।इस मौके पर नव गठित नंदादेवी राजराजेश्वरी परगन्ना बधाण कमेटी के अध्यक्ष भुवन हटवाल संरक्षक त्रिलोक सिंह रावत, विनोद रावत, बलवंत सिंह रावत, शौर्य प्रताप सिंह, विरेंद्र गुसाईं, प्रेम फरस्वाण,प्रेम शंकर रावत, मेहरबान सिंह सैजवाल,चरण सिंह रावत, महेश त्रिकोटी, रघुवीर भंडारी, मनोज रावत,मदन गुसाईं, बलवीर भंडारी, भुपाल गुसाईं, विरेंद्र रावत, बार एसोसिएशन थराली के अध्यक्ष डीडी कुनियाल, नंदादेवी राजजात समिति के अध्यक्ष भुवन नौटियाल, थराली के पूर्व प्रमुख बख्तावर सिंह नेगी,बधाणगढ़ी मंदिर समिति के अध्यक्ष देवेंद्र रावत, कुरूड़ मंदिर समिति के अध्यक्ष नरेश गौड़,हरीश जोशी, गब्बर सिंह रावत, मनोज गुसाईं,सभासद सीमा देवी,लीला देवी,गौरा देवी, महेशी देवी,कमला देवी आदि ने श्रद्धालुओं का स्वागत किया। देवराड़ा से कुरूड़ विदाई के तहत शुक्रवार को उत्सव डोली देवराड़ा से सुनाऊं होते हुए बज्वाड़ गांव पहुचेगी। यात्रा दोपहर करीब 11 बजे देवराड़ा से प्रस्थान करेगी।

Share This News