आईएएस सुहास एलवाई पैरालिंपिक में करेंगे देश का प्रतिनिधित्व।

आईएएस सुहास एलवाई पैरालिंपिक में करेंगे देश का प्रतिनिधित्व

अरविन्द तिवारी की रिपोर्ट

गौतमबुद्धनगर — गौतमबुद्धनगर के डीएम वर्ष 2007 बैच के आईएएस अधिकारी सुहास एलवाई टोक्यो में होने वाले पैरालिंपिक में देश का प्रतिनिधित्व करते नजर आयेंगे। पैरा बैडमिंटन टीम में इन दोनों के अलावा पांच और सदस्य हैं। इस मौके पर सुहास ने कहा पैरा ओलंपिक में क्वालीफाई करना ही बड़ी चुनौती है , उन्हें बहुत गर्व है कि वे देश के लिये खेलेंगे। भावनाओं को रखने के लिये उनके पास शब्द नहीं है ,उनका लक्ष्य देश को पदक दिलाने का है। इस दौरान उन्होंने कहा कि मैं देश के सभी माता पिता से अपील करता हूं कि वे अपने दिव्यांग बच्चों का काफी ध्यान रखें। उन्हें खेल-कूद , पढ़ाई या वे जो भी करना चाहते हैं उसमें उनका सपोर्ट करें। मैं अपने दिवंगत पिता का धन्यवाद करना चाहूंगा जिसने मुझ पर भरोसा किया , जिसके कारण आज मैं खेलों में देश का प्रतिनिधित्व कर पा रहा हूं। कर्नाटका के शिमोगा जिले के मूल निवासी सुहास एलवाई की पहली पोस्टिंग आजमगढ़ हुई थी। वे देश के पहले ऐसे अधिकारी हैं जो पैरालिंपिक जैसे बड़े मंच पर देश का प्रतिनिधित्व करेंगे। इससे पहले वे युगांडा पैरा बैडमिंटन इंटरनैशनल टूर्नामेंट में कांस्य पदक और तुर्की इंटरनेशनल बैडमिंटन टूर्नामेंट में पुरुष सिंगल्स का खिताब जीत चुके हैं। वर्ल्ड रैंकिंग में तीसरे नंबर के शटलर सुहास कई अन्य अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में पदक भी जीत चुके हैं। वे जकार्ता पैरा एशियन गेम्स-2018 में कांस्य पदक विजेता पुरुष टीम में शामिल थे। वर्ष 2017 में टोक्यो में हुए जापान ओपन पैरा बैडमिंटन टूर्नामेंट में उपविजेता रहे थे जबकि युगल एसएल-4 वर्ग में कांस्य पदक जीता था। वर्ष 2016 में चीन में एशियाई चौंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता था। चीन में उन्हें यह उपलब्धि आजमगढ़ डीएम रहते हुये प्राप्त हुई थी। हालांकि बीते दो सालों में कोरोना संक्रमण के चलते सुहास का अधिकतर समय नोएडा में स्थितियां सुधारने में बीता। उन्होंने अपना आखिरी टूर्नामेंट ब्राजील ओपन (जनवरी 2020) और पेरू ओपन (फरवरी 2020) के रूप में खेला जहां स्वर्ण जीतने में कामयाब रहे। इसी प्रदर्शन के आधार उनकी वर्ल्ड रैंकिंग तीन आ गई। इसके बाद सुहास कोई भी टूर्नामेंट नहीं खेल सके, लेकिन वर्ल्ड रैंकिंग ने उन्हें पैरालंपिक खेलों का टिकट दिला दिया। दिलचस्प बात यह है कि एक आम खिलाड़ी से इतर सरकारी फाइलों से जूझने वाले अफसर के लिये राज्य या बहुत ज्यादा राष्ट्रीय स्तर तक खेल पाना ही संभव हो पाता है , लेकिन प्रदेश के आईएएस अफसर सुहास एलवाई ने इतिहास रचते हुये टोक्यो पैरालंपिक गेम्स के लिये अपना टिकट फाइनल करवा लिया है। सुहास को एसएल-3 यानि स्टैंडिंग लोअर कैटेगिरी में इंटरनेशनल रैंकिंग-3 का फायदा मिला , जिसकी बदौलत 24 अगस्त से पांच सितंबर तक होने वाले पैरालंपिक खेलों में भाग लेने टोक्यो जायेंगे। वे छह बार देश के लिये गोल्ड मेडल जीत चुके हैं।

सुहास एलवाई के कैरियर पर एक नजर —

वर्ष 2016 में एशिया पैरा बैडमिंटन (चीन) में स्वर्ण पदक , वर्ष 2017 में टर्की पैरा बैडमिंटन में स्वर्ण पदक , वर्ष 2018 नेशनल पैरा बैडमिंटन में स्वर्ण पदक , वर्ष 2019 में आयरिश पैरा बैडमिंटन में रजत पदक , वर्ष 2019 में तुर्किश ओपन पैरा बैडमिंटन में स्वर्ण पदक , वर्ष 2020 में ब्राजील ओपन पैरा बैडमिंटन में स्वर्ण पदक , वर्ष 2020 में पेरू ओपन पैरा बैडमिंटन में स्वर्ण पदक।

Share This News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Covid-19 Updates